चलो दिल्ली – विमुक्त-घुमंतू, बाराबलुतेदार और आत्यंतिक पिछडे हुए वर्गोंका जंतरमंतर दिल्ली में दि.27.03.2016 को महामोर्चा का आयोजन

chalo-delhi-27march16-govind

 

विमुक्तघुमंतू, बाराबलुतेदार और आत्यंतिक पिछडे हुए वर्गोंका जंतरमंतर दिल्ली में दि.27.03.2016 को महामोर्चा का आयोजन

===============================================================

केंद्रिय ओबीसी के 27… आरक्षण का विभाजन करके महाराष्ट्र की तरह पूरे देशमें आरक्षण का अंमल किया जाए इस प्रमुख माँग के लिए विमुक्त-घुमंतू, बाराबलुतेदार, तेली, माळी, कोळी, धनगर, गोवारी समाजके लोग जंतरमंतर दिल्ली में दि.27.03.2016 को महामोर्चा निकालेंगे। विमुक्त-घुमंतू और बाराबलुतेदार आंदोलन के राष्ट्रीय नेता श्री. हरीभाऊ राठोडजी तथा बाराबलुतेदार महासंघके अध्यक्ष कल्याणराव दळेजी और अन्य समाजोंके प्रमुख नेतागण इस महामोर्चाका नेतृत्व करेंगे।

मंडल आयोग की सिफारिसों के अनुसार अन्य पिछडे वर्गों को 27… आरक्षण दिया गया था किन्तु इस आरक्षण का लाभ सिर्फ कुछ चुनी हूई जातियोंको मिला रहा है और विमुक्त-घुमंतू तथा अन्य अत्यंत पिछडी हुई जातियों को इसका लाभ नहीं मिल रहा है। मंडल आयोगपर अंमल करने वक्त मंडल आयोग के एक सदस्य श्री. एल.आर. नाईकने संम्मिलित 27… आरक्षण का विरोध किया था। उन्होने ऐसी सिफारिस की थी कि इस आरक्षण को दो हिस्सों में बाँटा जाए। किन्तु उस समय अन्य सदस्योंने उनकी राय नहीं मानी। मंडल आयोग की सिफारिसों पर अंमल करते हुए माननीय सर्वोच्च न्यायालयने भी इंद्रा सहानी मामलें में ऐसा सूचित किया था कि इस आरक्षण को दो या तीन हिस्सों में बाँटा जाए। हाल ही में राष्ट्रीय पिछडे वर्ग के आयोग दिल्ली इन्होनें अन्य पिछडे वर्गों के विभाजन तीन हिस्सों में 1) विमुक्त-घुमंतू 2) अत्यंत पिछडे वर्गों के तेली, माळी, गोवारी, कोळी और 3) अन्य पिछडे वर्ग ऐसा विभाजन करे ऐसी सिफारिस की थी। यदि सरकार इस दबे हुए और वंचित समाज को न्याय दिलाना चाहती है तो इन सिफारिसों पर अंमल करना चाहिए। इनका लाभ विमुक्त-घुमंतूओंकी 660 जातीयाँ और अत्यंत पिछडे वर्गों की 540 जातीयों को होगा। सरकारके पास हर जातीके अनुसार आबादी की संख्या उपलब्ध है। यदि पिछडे हुए वर्गो का आयोग की सिफारिसोंपर अंमल किया गया तो विमुक्त-घुमंतू, बाराबलुतेदार, नाई, खाती, वाडी, सुतार, लुहार, धोबी, धनगर, तेली, गोवारी, माळी, कोळी, बंजारा, गवळी, बेलदार, वडार, भोई इन जातीयों को और अन्य जातियों को सामाजिक न्याय मिलेगा। इस निर्णय से आंत्यतिक पिछडे हुए लगभग 40 करोड जनता को लाभ होगा। इस प्रमुख माँग के लिए तथा और माँग जैसे इन जातियों की आबादीके प्रमाण में उनके लिए बजट में प्रावधान करना, अन्य पिछडे वर्गोंकी हर जाती की आबादी की संख्या घोषित करना, अन्य पिछडे वर्गों का अनुशेष भरना (अब तक अन्य पिछडे वर्गोंकी सिर्फ 17… पदें की भर्ती हुई है) इन माँगों के लिए इस महामोर्चाका आयोजन किया है।

पूर्वसांसद और विद्यमान विधायक तथा विमुक्त-घुमंतूओंके राष्ट्रीय नेता श्री. हरीभाऊ राठोडजी और बाराबलुतेदार महासंघके महाराष्ट्र के अध्यक्ष श्री. कल्याणराव दळेजी ने ऐसा आवाहन किया है की समाज के विभिन्न संघटनाएँ अपने अपने समाज के ध्वज लेकर पारंपारिक वेशभूषा पहन कर 27 मार्च 2016 को जंतरमंतर दिल्ली पधारे और आंदोलन में शामिल हो जाए।

टिप्पणी उपर निर्देशित अनुसार हर जिलेके विमुक्त-घुमंतू, बाराबलुतेदार समाजके कार्यकर्ता अपने जिलेके स्थानिक नेताके नामसे यह प्रसिद्धी पत्रक जारी करे।

भवदीय

हरीभाऊ राठोड

(विधायक, विधान परिषद)

Tag: OBC raily, Banjara, Vimukt Ghumantu va Atipichhada Mahansangh, Haribhai Rathod MP