सौ.योगिता व गोर कैलास डी.राठोड शादी की सालगिरह २१ वे साल मे पर्दापण..

” जीवन डोर तुम्ही संग बाँधी ”

जीवन के अंतिम चरणों तक जो साथ हमारा निभाता हैं–
जीवन -साथी वही कहलाता हैं !
जीवन साथी वही कहलाता हैं !
जीबन की नैया को जो पार लगता हैं —
जीवन साथी वही कहलाता हैं !
जीवन साथी वही कहलाता हैं !
जब -जब मुझ पर दुःख आया तो ,
तुमने मेरा साथ दिया ,
हर मुश्किल आसान कर दी ,
जीवन को गुलज़ार किया —!

सात जन्मो के इस रिश्ते को ,
साजन तुमने नाम दिया !
मेरी हर अनदेखी गलती को .
प्रीतम तुमने मान दिया —!

रानी मुझको बनाकर अपनी ,
ममता का सौभाग्य दिया –!
हर पल मेरे तन के सुख पर,
अपना जीवन तार दिया –!

मुझसे शुरू होती हैं उनके जीवन की हर खुशियाँ !
मुझ पर ही ख़त्म होती हैं उनकी इच्छा और रंगीनियाँ !
ऐसे जीवन साथी को रब ने मुझ पर वार दिया –!

दुनियां की हर रस्म निभाकर ,
जब उनसे नाता जोड़ा था ,
क्या पता था जीवन के इस अग्नि -पथ पर —
संग -संग चलना मुश्किल होगा ,
अंगारों से भरी जमीं होगी ,
और झुलसता आसमान होगा,
पर, तुम्हारे साथ ने प्रियतम हर मुश्किल को आसान किया –!

मेरी धर्मपत्नी सौ.योगिता संग शादी के २१ वे साल मे पर्दापण..
३० अप्रैल १९९७ से २०१८

One Comment
  1. Avatar

Leave a Reply