युवाओं से भरा बंजारा समाज,समाज मे युवकों का योगदान अहम”-भाग 2,

युवाओं से भरा बंजारा समाज,समाज मे  युवकों का योगदान अहम !!

(भाग -2)

  हमारी युवा शक्ति और युवा कंधे हमारे समाज की अमूल्य धरोहर और बहुमूल्य सम्पदा होती हैं। और इस बात को युवाओ ने हर युग और अतीत में साबित भी किया हैं।यह सत्य है। युवाओ में अंसभव के पार देखने की अद्भुत क्षमता होती हैं और यही जोश और अंसभव को संभव करने के बल के कारण हर समाज सदैव युवा शक्ति से एक विशेष टकटकी लगाये रहता हैं।

जेसे हमारा बंजारा धार्मिक सद्भाव, सहयोग पर्व, उत्सव , कला और साहित्य संस्कृति के अंग है । इनका आदान प्रदान संस्कृति एकता को जन्म देता है । संगठन की अखण्डता एक समाज का जीवन और समृद्धि के लिए अनिवार्य है।जब  समाज अपने पैरों पर खड़ा होना जानता है वह कभी परास्त नहीं हो सकता । जो समाज दूसरों पर निर्भर रहता है वह लोगों पर भार अपने आप ही बन जाता है।आज ऐसाही चित्र है। हमै अलग विचारोंसे जोडकर समाजको भ्रमित करनेका काम हमारेही कुछ लोग कर रहे है।

 अब आज युवाओं की साहस 

की परीक्षा का समय आ गया है । हमारे भटकाव से मुक्त होकर संगठन के प्रति जागरूकता के साथ कार्य कनना जरुरी है।युवकों को अन्यायपूर्ण प्रस्ताव अन्य किसी लोभ लालच में आए बिना अपने समाज संगठन का हित देखकर अस्वीकार कर देना चाहिए अलग अलग संघटना आपने निजी स्वार्थ में जुटी है।अब कोयी चलवल के बिना कोयी पर्याप्त पर्याय नही है। इससे संगठन का गौरव बढ़ेगा तथा समाज उन्नति की ओर अग्रसर होगा । हमें बंजारा संस्कृति को जीवित रखने की आवश्यकता है इसके लिए संगठन की ओर से कठोर कदम उठाने के लिए अभियान चलाया जाना आवश्यक है । जिस दिन युवा पीढ़ी के बारे में संगठन व समाज का चिन्तन होगा उस दिन सामाजिक संगठन का भविष्य सुरक्षित एवं सुनहरा रहेगा।आज वही समाज बदला है, जहाँ परिवर्तन की धाराएं जोर से काम में जुटी है।सांस्कृतिक एकता की भावना से ओत प्रोत व्यक्ति की चलवल समाज को दिशा देती है।  आज का युग चुनौतियों का युग है, इसमें सिर्फ संगठनत्म चलवल का ही दायित्व नहीं बल्कि संस्कृति को जीवित रखने के लिये दायित्व बुजुर्गो के साथ युवा वर्ग का भी बनता है । सभी अपने-अपने कर्तव्यों से परिचित रहे व पालन करे।

    इतिहास गवाह है सदैव युवा वर्ग ने मानवीय मूल्यों को अपनाया है। परिवर्तन चलवल संत सेवालाल महाराज, वसंतरावजी नाईक साहब, भानावतजी,बलीराम पाटील,रणजित नाईक और अन्य मान्यवर समाजसेवको ने दिये मुल्यधिष्टत तत्वो का पालन कर अग्रेसित होना चाहती है। तो मेरे प्यारे युवाओं को नम्रतासे निवेदन है की चलवलसे जुड़े और समाज का दायित्वोंषका हकदार बनें ।

शुभकामनाओं के साथ….

गोर कैलास डी, राठोड

(मुंबई ठाणे संयोजक)

संपर्क-: 98199 73477

वसंतरावजी नाईक बंजारा परिवर्तन

चलवल महाराष्ट्र राज्य,

क्रमशः…

Leave a Reply