“युवाओं कि ताकत से भरा बंजारा समाज,समाज मे युवकों का योगदान अहम”

​”युवाओं की ताकत  से भरा बंजारा समाज,समाज मे आजके युवकों का योगदान अहम”!!
हमारी राजनीतिक अदूरदर्शिता और सामाजिक व प्रतिबद्धता में कमी के चलते वर्तमान में बंजारा समाजकी जो तस्वीर कुछ अलग बनी है, उससे हर व्यक्ति का समाज मन   विचलित है। सबके मन में रह-रहकर एक ही प्रश्न बार-बार उठ रहा है, क्या यही वह समाज दिशाहीन हो रहा हे। स्वाभिमान की रक्षा,सामाजिक न्याय, स्वातंत्र्य और सुख-समृद्धि के लिए हमारे नेता वसंतरावजी नाईक साहबने  ने जीवन होम कर दिया । संत सेवालाल महाराजने नयी दीशा दी।हमने तो कभी ऐसे समाज के बारे में नहीं सोचा था। हम तो हमेशा ही यह सुनते आए हैं कि यहां मर्यादा की रक्षा के लिए हमारे इस नाईक साहब अपने यौवनसेही ने हमारे घर-परिवार की  चिंता की।इसलिए आज हम सुरक्षित  जीवन का अनुभव ले रहे हे।  समाजसेवा उनका मूल मंत्र रहा। तांडो से हम शहरों में बस गये । लेकिन अपराध, शोषण अन्याय , दिशाहिनता  का तो यहाँ तो  नाम तक नहीं था। आज परिस्थिति कुछ अलग है।लेकिन आज की स्थिति हमारे हर युवा को यह सोचने पर मजबूर करती है कि क्या यह वही समाज  है,जो सिंधू धाटीसे संस्कृति से परिपूर्ण है। जिसकी श्रेष्ठता के किस्से हमने कई-कई बार सुने हैं। यह एक गंभीर प्रश्न है कि आज का हमारा युवक जो समाज का भविष्य गढ़ने को तत्पर है वह कैसा समाज चाहता है और समाज के बारे में उसका सपना क्या है? इसका समाधान खोजे बिना समाज का नवनिर्माण अधूरा रहेगा। इस विषय पर हमने चवलवल के माध्यम से कई जागरूक युवाओं से चर्चा कर उनका मन टटोला और उसमें से उभरी ये युवा, सुखी-समृद्ध और समर्थ समाज की तस्वीर। इससे यह तथ्य भी सामने आता है कि आज का युवा समाज  के प्रति कितना जिम्मेदार व जागरूक है और ‘पुरानी नींव, नया निर्माण’ के भाव को समझने वाला है।

 वही  परमवैभव प्राप्त कर समाज  का कल्याण कर सकता है।यह हेतुसे युवाओं को आज चलवलसे जुडने की जरूरत है।

हमें ऐसा समर्थ समाज चाहिए जिसकी सीमा पर कोई आंख उठाकर यह न कह सके कि तवांग हमारा है, आज पुरोगामी वीचार से समाज गुमराह हो रहा है। इनके चपेट से युवाओंको रोखना जरूरी हे। ,आजके  लोकतंत्र की गरिमा के साथ वे आत्मनिर्णय लेने की क्षमतासे सामाजके सामने आये। व्यस्त जीवन में व्यसनोंसे दुर रहे। जातिवाद, क्षेत्रवाद आदि के लिए कोई स्थान न हो। केवल समाज हीत में काम करे।  अपनी समाजसेवा के  गरिमा को समजे और समाजका अच्छा उत्तरदायित्व निभाये।

चलो हमारे साथ जुडीऐ।

शुभकामनाएं आपके साथ ।

~गोर कैलास डी.राठोड

मो.क्र.9819973477

(मुंबई ठाणे संयोजक)

 वसंतरावजी नाईक बंजारा परिवर्तन चलवल महाराष्ट्र राज्य,

One Comment
  1. Avatar

Leave a Reply