पित्त वृद्धि

आयुर्वेद चिकित्सा विज्ञान के अनुसार मानव शरीर , प्रकृति में व्याप्त पांच तत्वों से मिलकर बना है ये तत्व हैं -वायु,जल,अग्नि,आकाश और पृथ्वी |
आयुर्वेद ने इन पांच तत्वों को मूल तत्व समझते हुए इनकी उपस्थिति को वात ,पित्त और कफ के नाम से संज्ञान में लिया है | दिन के मध्य प्रहर और रात्री के मध्य प्रहर में पित्त बढ़ता है।
पित्त की वृद्धि से कब्ज़ ,सिरदर्द ,भूख न लगना ,सुस्ती आदि के लक्षण होते हैं | पित्त की वृद्धि का उपचार विभिन्न औषधियों द्वारा किया जा सकता है :–
१-हरीतकी का चूर्ण सुबह -शाम मिश्री के साथ खाने से पित्त की वृद्धि ठीक होती है और जलन भी शांत होती है |

२-पित्त बढ़ने पर मुनक्के का सेवन भी अति लाभकारी है | इससे भी पित्त की जलन दूर होती है |

३- कागज़ी नींबू का शरबत सुबह -शाम पीने से पित्त की वृद्धि बंद हो जाती है |

४-गिलोय का रस 10 ml रोज़ तीन बार शहद में मिलाकर लेने से लाभ होता है |

५-छोटी इलायची सुबह -शाम खाने से पित्त में लाभ होता है |
– सौंफ , धनिया ( सुखा या हरा ) , हिंग , अजवाइन , आंवला आदि पित्त को नियंत्रित करते है।
– सुबह सुबह छाछ , निम्बू पानी , नारियल पानी , मूली , फलों के रस आदि के सेवन से पित्त नहीं बढ़ता।

Leave a Reply