“दुनियाभरके रोमा,रोमानी/जिप्सी/रोमा बंजारा यह भारतीय गोर गण समूह के लोग हमारे गोर बंजारा है!:- भाग क्र.3..

​।। जय सेवालाल।।

दुनियाभरके रोमा,रोमानी / जिप्सि/रोमा बंजारा ये भारतीय गोरगण समूह के लोग हमारे गोर  बंजारा है

भाग-3〰〰〰

✍ प्रा.दिनेश सेवा राठोड

  भाईयों,

विश्वका रोमा बंजारा समुदाय भारत से है। उन्हें भारत के प्रवासी के रूप में पहचान करने के लिए के  हमारे देशमें आंतरराष्ट्रिय रोमा दिन हर वर्ष मनाना जरुरी है। की दुनिया भर में फैले”रोमा लोगों को, एक भारतीय राष्ट्र, दक्षिण-पूर्वी और पश्चिमी यूरोप के मूल निवासी क्षेत्र, लेकिन यह भी दुनिया के अन्य भागों में हैं सभी विशेषताओं है कि उन्हें एक विशेष राष्ट्रीय इकाई बनाने के साथ,” आज जोवन डैमजानोविक, विश्व रोमा संगठन के अध्यक्ष, है। तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन रोमा और सांस्कृतिक महोत्सव 2016 मे दिल्ली में संपन्न हुआ । इस प्रोग्राम उन्होनें कहा था ,यहाँ।

“हम भारतीय मूल के रूप में देखा जाना चाहिए और मूल के विकास का हमारे देश के लिए एक योगदान कर सकता है चाहते हैं,” उन्होंने सांस्कृतिक संबंध इंडियन काउंसिल (आईसीसीआर) और अंतर राष्ट्रीय सरयोग परिषद (भारत) द्वारा आयोजित सम्मेलन में कहा था।।”हम प जो चले गए और सदियों के लिए विदेशों में चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में रहते है भारत के बच्चे हैं फिर भी आप अपनी भारतीय पहचान को बनाए रखा एक मजबूत 20 लाख 30 से अधिक देशों में अपने समुदाय प्रसार की आबादी को शामिल है। पश्चिम एशिया, यूरोप, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया विदेशी संस्कृतियों के अनुरूप ढलने के अपने अद्वितीय क्षमता की बात करते हैं। हम भारत में उनपर पर गर्व है .. एक खुले दिल से उन रोमाओंका इस कार्यक्रममें स्वागत किया गया था। “

   रोमा लोग आज डोम, बंजारा, गुज्जर ,शांसी, शिकलीगर धनगर और अन्य लोगों, Romas की तरह उत्तर पश्चिमी भारत में खानाबदोश विमुक्त धुंमंतु समूहों के वंशज के रूप में अलग नामसे उनकी पहचान है। “Zigeuner” जर्मनी में, “Tsyiganes / मानुस” फ्रांस में “Tatara” स्वीडन में जाना जाता है होना करने के लिए कहा, ” गिटानो “स्पेन में,” Tshingan Tsigan “तुर्की और ग्रीस, में” जिप्सी “” रूस, बुल्गारिया और रोमानिया और “ब्रिटेन में।सांस्कृतिक पहचान कै लिऐ ऐसे प्रोग्राम की आवश्यकता है। इस प्रोग्राममें निचे विषयों पर मंथन हुआ था।

   कहा गया है उनकी भाषा अपनी जड़ों और भारत और भारतीय छात्रों में विरासत को खोजने के लिए शोध किया जा करने के लिए रोमा लोगों और उनके प्रवास के इतिहास सिखाया जाना चाहिए ।

 “रोमा की एक अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक महोत्सव हर दो साल में प्रवासी भारतीय दिवस का पैटर्न पर भारत में आयोजित किया जाना चाहिए,”

रोमा लोगों के आर्थिक उत्थान के लिए, यह भी युवा रोमा उद्यमियों को सूक्ष्म वित्त सुविधा के प्रावधान के लिए कहा जाता है।

“भारत और रोमानी लोगों के बीच आर्थिक संबंधों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। रोमानी लोगों एक पारस्परिक रूप से लाभप्रद ढंग से योगदान और भारत के विकास की प्रक्रिया का एक हिस्सा होने के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए,”  कहा।

संकल्प भी भारतीय मानवाधिकार संगठनों पर बुलाया सभी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों के साथ रोमानी लोगों के मानवाधिकारों के उल्लंघन के मुद्दों को लेने की आवश्यकता है।

  Ref- Times of India Date-15 Feb,2016*

 क्रमशः–to be continued

सौजन्य:- गोर कैलास डी राठोड

गोरबंजारा आँनलाईन न्यूज पोर्टल मुंबई महाराष्ट्र राज्य.

Tag: Banjara News, Banjara live, Gorbanjara. Lamani. Lambadi, Bazigar

Leave a Reply