जीवन एक क्रिकेट हैं।~ गोर कैलास डी राठोड

“जीवन एक क्रिकेट हैं”

“जीवन” एक “क्रिकेट” है !!
‘सृष्टि’ के ‘स्टेडियम’ में,
‘धरती’ की विराट ‘पिच’ पर,
‘समय’ – ‘बोलिंग’ कर रहा है।
‘शरीर’ – ‘बल्लेबाज’ है,
‘धर्मराज’ – ‘एम्पायर’ है,
‘बीमारियाँ’, ‘फील्डिंग’ कर रही हैं,
‘यमराज’, ‘विकेट-कीपर’ है ,
और ‘प्राण’ – ‘विकेट’ है,
इस “डे-नाइट” के मैच में हमें ,
‘रचनात्मकता’ के जलवे दिखाना है,
‘साँसों’ के ‘सीमित-ओवर’ में ,
‘सर्जन’ के ‘रन’ बनाना है,
‘गिल्लियां उड़ने’ का अर्थ है ‘साँस का टूट जाना’,
‘एल.बी.डब्ल्यू.’ यानि ‘हार्ट-अटैक’,
‘दुर्घटना में मरना’ – ‘रन-आउट’ कहलाता है,
‘आत्मघात’ का मतलब ‘हिट-विकेट’ हो जाना ,
‘हत्या’ का अर्थ ‘स्टम्प-आउट’ होना,
हालाँकि कुछ आक्रामक खिलाड़ी जल्दी पैवेलियन लौट जाते हैं, पर पारी ऐसी खेलते हैं कि कीर्तिमान बना जाते हैं,
सबका अपना-अपना ‘रन-रेट’  है,
“जीवन” एक “क्रिकेट” है ।

गोर कैलास डी राठोड
बंजारा आँनलाईन न्यूज पोर्टल,
www.goarbanjara.com

image

Leave a Reply