“इंसान का जन्म किस लिऐं”

“इंसान का जन्म किस लिऐं”

हम जो इंसान के रूप मे जन्मलिया हैं वह बहुत खुशी की बात हैं | लेकिन हम इंसान के रूप मे जन्म लेकर जो इस पविञ भुमीपर आय हैं वह भी बहुत खुशी की बात हैं | मगर हमने क्यों जन्म लिया हैं,हमे क्या करना होगा इस धर्तीपर यह हमने कभी सोंच्या नही.सोंचते है तो सिर्फ खुद के लिऐ और हमारे पास समय भी नही हैं | दुसरो के लिऐं सोचने को.हम सिर्फ यह कहकर जिंदगी बितारहे हैं | के मेरे पास बहुत सारा पैसा हो,एक गाडी हो,३ बेडरूम वाला मकान हो, और कुछ बाकी हैं हमेने कभी सोंचा है के हम जिस समाज मे जन्म लिऐ हैं | या हमारे समाज के हमारे भाई की हालत क्या हैं..? कभी नही सोंच्या.और सोंचेंगे भी नही क्यों के हमे दुनिया से क्या लेना देना हैं | यह हमारा भ्रम हमे आगे नही बढ़ने देरहा हैं | तो हम कब सोंचेगे अपने हमारे समाज के बारे मे क्या हमे कुछ लेना देना नही हैं | समाज से या हम सोंचना नही चाहते..? हमारी पविञता इस बातपर हैं भाईयों जब हमने तो हमारे बंजारा समाज मे जन्म लिया हैं और हमारे श्रद्धांस्थान लोगों ने जैसे समाज संस्थापक संत श्री सेवालाल महाराज,बंजारा नायक गोर वसंतरावजी नाईक अन्य. कही समाज भुषनो ने समाज के लिऐ काम कर हमे समाज के लिऐ काम करने के लिऐं प्रेरणा देकर समाज से नजदीकीया बढ़ाने के लिऐं..कुछ बाते(श्लोक) कर हमारे समाज का नाम रोशन करगये हैं तो क्यु भला हम पिछे हटेंगे…समाज का इतिहास दोहराना समाज के हित के लिऐ बहुत बढ़ी बात हैं..और आने वाली अपनी पिढ़ीयो के लिऐ बहुत बढ़ी बात हैं..हम बंजारा समाज का इतिहास भुलरहे हैं..शायद हम सिर्फ पैसे कमाने या आपना नाम कमाने के लिए..नही इस महान समाज मे जन्म लिया हैं… हमारा कर्तव्य हैं जिस समाज मे हम आये हैं उस के लिऐ कुछ कर गुजरने का..समाज को जोडना बहुत अछी बात हैं और समाज से जुडना वह तो अपने लिऐ और भी बढ़ी बात हैं..गोर बंजारा संघर्ष समिती के माध्यम से समाज को  जोडने का काम चालु किया हैं.यह समिती राजकारण मुक्त समिती हैं.किसी राजकिय पार्टी या नेताओसे कुछ सबधित नही हैं.गोर बंजारा संघर्ष समिती का एकही मक्सद हैं.जो समाज हित मे काम करना हैं वह समाज को जोडकर समाज के लिऐ निस्वार्थ होकर समाज के गोर गरीब अपने भाईयों को सच्या न्याय दिलाना,और समाज के गरीब व अनपड भाईयो के बचों को अछी तरह से शिक्षण दिलवाना यह हमारा पहला कर्तव्य हैं..जागो मेरे भाईयों..समाज के लिऐ कुछ कर दिकाना हैं..समाज से जुडो और समाज को जोडो..यह अभियान गोर बंजारा संघर्ष समिती के संयोजक श्री रविराजजी राठोड संपादक राज बंजारा हिंदी साप्ताहीक, के साथ मिलकर समाज के मेरे भाई व देश के पुरे हिंसो से जुडरहे हमारे भाईयो के लिऐ यह गर्व कि बात हैं…जुडेगा समाज को बहुत बढ़ि सफलता हसिल होने वाली हैं यह बात हमे भुना नही हैं..
हमे हर दिन सचे दिल से एक ही मॉसेज समाज के हित मे पोस्ट करना हैं.और समाज के भाईयों को वह बात समजाकर बोलना हैं…
जय सेवालाल.. जय गोर..
आपका सुभचिंतक..
गोर कैलास डी. राठोड
स्वयंसेवक गोर बंजारा संघर्ष समिती तथा संस्थापक/अध्यक्ष,
जय सेवालाल बंजारा सेवा संस्था ठाणे महाराष्ट्र राज्य..
मो.९८१९९७३४७७…

image

Leave a Reply