“आपका एक विचार”

भाईयो आपके पास एक ऐसा शस्त्र है।जिसके जरिए आप आपने गोर बंजारा भाईयो तक आपनी मन की हर बात पहूचा सकते हो।हम लोग फनी माॅसेजेस तो बहूत सारे भेजते रहते है।लेकिन दिन मे एक माॅसेज अगर समाज केलिए भेजेगें तो समाज को प्रोत्साहन मिलेगा।क्योंकि भाईयो हमें हमारे समाज को आगे बढ़ाने केलिए हमें जो भी अच्छा करना पढ़े वो हम करेंगे।एक अच्छा विचार आपका अगर समाज मे प्रोत्साहन ला सकता है।तो हमारे हर भाईयो से मै उम्मीद करता हूँ।की वे आगे चलकर समाज से जुड़कर और समाज को जोड़ने का कार्य करें।
और एक बात संत कबीर ने कहाँ है।
॥जगमे बैरी कोई नही॥
॥जो मन सितल होय॥
लढाई झगड़े करने से अच्छा सितल मनसे उन्हें समजो समजाओ मुझे पता है मेरा समाज बहूत भोला है और वह जल (पाणी) के जैसा है।जैसे की पाणी को आप कहीं भी मिलादो उसके बाद वह उसी मे मिलकर उसी मे समा जाता है।उसी तरह मेरे समाज का हर गोर भाई को अच्छे कार्य मे एक एक करके आगे लाये और उन्हें भी समाज केलिए अच्छा काम करने का मौका मिले।क्योंकि भाईयो समाज के हर भाईयो को पुरा हक्क है।की ओ समाज को एक अच्छी दिशा दिखाएँ।तो भाईयो आप कभी भी कही भी हो सुरूवात वही से किजिए।
और निःस्वार्थ स्वयंसेवको की “गोर बंजारा संघर्ष समिति के साथ आईये और मिलकर समाज के बढ़ते कदमों को प्रोत्साहन देकर आगे बढ़ाने का कारण बनिए।
जय सेवालाल
भाईयो कुछ गलत शब्दों की वजह से मेरे किसी भी भाईयो को दुखः पहूचँता है।
क्षमा चाहता हू।

आपका हिंतचिंतक
गजानन डी.राठोड (मेघावत बंजारा)
स्वयंसेवक
गोर बंजारा संघर्ष समिति भारत,
9619401377

Leave a Reply